Life

what is LOVE प्यार क्या हैं |

what is LOVE प्यार क्या हैं |
Written by Himanshu sonkar

नमस्कार दोस्तों कैसे है आप आज इस पोस्ट में मैं आपको प्यार का असली मतलब समझाऊंगा की असली मायने में प्यार क्या होता हैं what is love या आप बोल सकते हो
what is real love सही मायने में प्यार क्या हैं |

प्यार क्या है सच पूछा जाय तो प्यार “अनिर्वचनीय” है अनिर्वचनीय का अर्थ – जिसका अर्थ शब्दों से बया नहीं किया जा सकता है |

मैंने आपसे कहा की प्यार का अर्थ आप शब्दो से बया नहीं कर सकते ऐसा क्यू ? क्यू की प्यार “प्रेम” एक भावना हैं भावना को आप शब्दो से कभी बया नहीं कर सकते हैं | 
उदाहरण – अगर किसी व्यक्ति ने जीवन में कभी मीठा खाया ही ना हो तो आप कैसे सिर्फ शब्दो से उस व्यक्ति को बतायगे की मीठा खाना कैसा होता है | आप केवल बोल सकते है की मीठा मीठा होता है आप कभी भी सिर्फ शब्दो से मिठे होने का एहसास नहीं करा सकते है | “what is love”

अगर आप से कोई पूछे की आप मुझसे कितना प्रेम करते है तो इसका उत्तर शब्दो में है ही नहीं | इसका केवल यही उत्तर है की तुम मुझसे उतना ही प्रेम करके देखो जितना मैं करता हु तुम से |

प्यार एक भावना है ये आपके भावनाओ की मिठास है जिसे हम प्यार “प्रेम” के नाम से जानते है अगर यही भावनाय कड़वी हो जाय तो हम उसे नफरत कहते है | “what is love”

अक्सर जिनसे आप प्यार करते है उन्ही से नफरत करते है |

प्यार और नफरत एक सिक्के के दो पहलू है इस तरफ गिरे तो प्रेम बन जाता है और उस तरफ गिरे तो नफरत ये मत सोचिए की प्रेम और नफरत बहुत दूर है वो बहुत करीब है एक छोटी सी गड़बड़ी होते ही प्यार नफरत बन जाता है |”what is love”

तो बिना भावना के प्यार कैसे करे ?

अब फैसला ये करना है की क्या आप अपनी भावनावो को मधुर और सुखमई बनाना चाहते है की दुखद या दुखमई ये आपकी मर्जी है |”what is love”

what is LOVE प्यार क्या हैं |
what is LOVE प्यार क्या हैं |

अगर आप अपनी भावनाओ को सुखद बना ले तो जीवन भी बहुत सुखद होगा |

आज भी ज्यादातर लोगो के लिए प्यार का एक पल उनके जिंदगी का सबसे गहरा अनुभव होता है |

अगर आप कहते है की आप किसी से प्रेम करते है तो आप उनके बारे में बड़ा -चड़ा के बोलेगे आप उनकी आछाईयो को बड़ा चड़ा लेंगे अगर आप कहते है की मैं किसी से नफरत करता हु तो आप उनकी बुराइयों को बड़ा -चड़ा लेंगे आप किसी भी चीज़ को उसके असली रूप में नहीं देख पायगे लोग जिन चीज़ो से प्यार करते है उनके लिए अंधे हो जाते है |वो अपनी सारी समज गवा देते है|

अपनी मधूर भावनाओ तथा विवेक का उपयोग ही जीवन का सार है |

अगर आपको खुश होना है तो उन्हें वैसा बनना होगा जैसा आप चाहते है और ये कभी मुमकिन नहीं है कोई भी वैसा नहीं बनेगा जैसा आप चाहते है आप एक भी इंसान को मन चाहा नहीं बना सकते इसलिए प्यार में लोग दुखी होजाते है और मधुरता ही असली प्रेम है |

                                                                                                          _HIMANSHU 

आपको आज का पोस्ट कैसा लगा कमेंट में जरूर बताय और आपको पोस्ट पसंद आय तो सेयर भी करदे नैय- नैय लोक विचारो को जान्ने और सीखने के लिए पड़ते रहे www.todaythinking.com की पोस्ट अपना कीमती समय देने ले लिए आपका दिल से धन्यवाद |

                                                                                                

About the author

Himanshu sonkar

Hello Dosto mera nam Himanshu Sonkar hai or mujhe online aap sab ko information dena bahut hi pasand hai mera post aap logo ke kam aay is Se Jyada Badi Baat aur kuch nahi .

Leave a Reply

.
%d bloggers like this: