Life

Moral Stories In Hindi – जीवन बदलने वाली कहानियां हिंदी में

Moral Stories In Hindi
Written by Himanshu sonkar

Moral Stories In Hindi – बचपन में आपने अपने दादा-दादी तथा अपने बड़ों से जरूर कुछ अच्छी अच्छी कहानियां सुनी होंगी हमें इन कहानियों से ही जीवन में कुछ करने के लिए अच्छी सीख मिलती है तो दोस्तों आज मैं आपके लिए new moral stories in hindi में जीवन बदलने वाली कहानियां लेकर आया हूं यह कहानियां बच्चों के साथ साथ बड़ों के लिए भी काफी प्रेरणादायक है तथा नैतिकता का ज्ञान देता है सभी कहानी के अंत में हमें कुछ ना कुछ जरूर सीखने को मिलता है इन कहानियों में बताई गई सिख हमें जीवन के किसी ना किसी मोड़ पर जरूर काम आती है इसलिए यह Moral Stories In Hindi पूर्ण पढ़ें

Table of Content

1# जीवन के असली भय से मुक्त Hindi short stories with moral

Hindi short stories with moral: एक गांव में एक श्याम नाम का नव जवान रहता था उसने अपने जीवन में कुछ करने की ठानी और उसने सोचा अगर मुझे जीवन में कुछ बड़ा करना है तो मैं क्या करूं ? उसने सोचा जीवन में अगर मैं किसी भी चीज से न डरने लगू और जीवन में fearless हो जाऊं तो बात बन सकती है और ऐसा सोचकर श्याम जंगलों में चला गया श्याम ने जंगलों में जाकर सिद्धियां पानी शुरू की श्याम ने जंगलों में निरंतर 10 , 12 सालों तक तपस्या की और श्याम को कुछ सिद्धियां प्राप्त हो गई

श्याम की सिद्धियां इतनी बढ़ चुकी थी कि श्याम अब किसी भी चीज से नहीं डरता था वह जंगलों में निरंतर तपस्या करते रहता था उस घने जंगल में आसपास के गांव के लोग जाने से भी डरते थे क्योकि वह जंगल खूंखार जंगली जानवरों से भरा पड़ा था श्याम अपनी तपस्या में इतना लीन रहता था की अगर उसके आसपास से जंगली जानवर भी चले जाए तो उसे फर्क नहीं पड़ता था श्याम महीनों हफ्तों एक जगह पर बैठकर तपस्या किया करता था श्याम के शरीर पर सांप भी चलने लगे फिर भी उसके रोंगटे खड़े नहीं होते थे

कुछ समय बीतने लगी और आसपास के गांव तथा शहर में श्याम के बड़े चर्चे होने लगे अब श्याम को बहुत ज्ञानी संत समझने लगा गया बाबा श्याम से मिलने के लिए दूर-दूर से लोग आने लगे तभी एक युवक को बाबा श्याम के बारे में पता चला उस युवक ने सोचा मुझे इस महान संत बाबा श्याम के पास एक बार जरूर जाना चाहिए और जीवन में भय से मुक्त होने का पाठ सीखना चाहिए

फिर क्या हुआ

जीवन के असली भय से मुक्त Moral Stories In Hindi

वह युवक बाबा श्याम के पास चला गया और बाबा श्याम से वह युवक कहने लगा मुझे जीवन में भय से मुक्ति चाहिए मुझे आप अपनी शरण में ले लीजिए और मुझे ईश्वर को पाना है, इसलिए मुझे जीवन में भय से मुक्ति चाहिए बाबा श्याम कहने लगे तुम सही जगह पर आए हो तुम्हें मैं ईश्वर को पाने का मार्ग बताऊंगा ईश्वर को पाने के लिए मुझे भय से मुक्त होना पड़ेगा बाबा श्याम कहने लगे मुझे किसी भी चीज से भय नहीं होता और बाबा श्याम उस युवक को समझा रहे थे उसी दौरान एक शेर वहां पर आ गया और जोर से दहाड़ मारी फिर भी बाबा श्याम को बिल्कुल भी फर्क नहीं पड़ा और उसके शरीर के एक बाल भी खड़े नहीं हुए इधर युवक के पसीने छूटने लगे थे बाबा श्याम ने कहा देखा मुझे भय से आजादी मिल चुकी है

युवक कुछ देर शांत था बाबा श्याम ने उस युवक की हालत देखी और अपनी कुटिया से उस युवक के लिए पानी लाने चले गए जहां पर बाबा श्याम तपस्या करते थे वहीं पर उस युवक ने एक धार्मिक ग्रंथ के कुछ मंत्र लिख दिए जब बाबा श्याम कुटिया के बाहर आए तब वह अपने स्थान पर बैठने वाले थे तभी उसने अपने पैर उस चट्टान पर रखना चाहा लेकिन वहां पर मंत्र लिखे हुए थे उसने अपने पैर झट से हटा लिए तभी उस युवक ने कहा बाबा जी आपको तो किसी भी चीज से डर नहीं लगता तो आप इस मंत्र से कैसे डर रहे हैं

उस युवक ने कहा आपको भले ही स्वाभाविक डर नहीं लगता हो लेकिन आपको अभी भी आंतरिक डर है उस युवक ने कहा मेरा डर तो स्वाभाविक है मैं एक बार ईश्वर को पा भी लूं लेकिन आप कभी नहीं पा सकते

जीवन के असली भय से मुक्त Moral Stories से हमें क्या सीखने को मिला

अगर हमें सही मायने में निडर होना है तो हमें अपने बाहरी डर से पहले अपने आंतरिक डर पर विजय होना पड़ेगा तब जाकर हम सही मायनों में निडर बनेंगे

2# अनोखी लालच पर नया कहानी panchatantra short stories in Hindi with moral

panchatantra short stories in Hindi with moral: एक जंगल में एक बंदर रहता था वह बहुत सुंदर बंदर था वह बंदर के पास खाने-पीने के बहुत सारे सामान मौजूद हुआ करते थे वह बंदर हमेशा खाने पीने की सामान इकट्ठा किया करता था खाने पीने की सामान इकट्ठा करने का लालच वह बंदर में धीरे-धीरे बढ़ने लगा था, शहर से शिकारी सर्कस में काम कराने के लिए बंदर पकड़ने की योजना बनाने लगे

वह शिकारी ने बंदर पकड़ने के लिए एक तरकीब लड़ाई उसने एक बोतल लिया वह बोतल में शिकारी ने थोड़े से चने रख दिया शिकारी जानता था कि चने बंदरों के सबसे स्वादिष्ट भोजन में से एक है उस बोतल को शिकारी ने पेड़ पर लटका दिया वह बोतल का मुंह छोटा सा था वह बोतल को शिकारी ने एक लंबे पेड़ पर लटका दिया और एक रात इंतजार करने लगा वह लालची बंदर ने वह चले से भरी बोतल देख ली

अनोखी लालच पर नया कहानी short storis

चने से भरी बोतल को देखते ही लालची बंदर वह पेड़ पर चढ़ गया और उस बोतल के मुंह पर अपना हाथ डालकर चने को मुट्ठी में भर लिया अब बंदर की मुट्ठी चने से भरी हुई थी वह अपना हाथ उस बोतल से निकालने की कोशिश करने लगा वह नहीं निकाल पा रहा था बंदर इतने लालच में था कि वह समझ ना सका अगर वह मुट्ठी खोलता तो वह आसानी से अपना हाथ बाहर निकाल सकता था.

अनोखी लालच पर Moral Stories से हमें क्या सीखने को मिला

यह कहानी Story Kids के लिए है लेकिन बड़े भी यह कहानी से बहुत सारा चीज सीख सकते हैं हमें यह Moral Storie सीख मिलती है कि हमें कभी भी लालच नहीं करना चाहिए.

3# किस की किस्मत ज्यादा अच्छी है Moral Stories In Hindi

एक शहर के इलाके में दो बच्चे रहा करते थे उन दोनों का नाम राहुल और मोहन था जिनमें से राहुल बहुत ही अमीर घर का बच्चा था और मोहन एक मिडिल क्लास घर का बच्चा था राहुल के पास सभी प्रकार की ऐसो आराम थी वह एक बड़े से गाड़ी में अपनी स्कूल जाता था उसके घर में बहुत बड़े गार्डन थे उसके घर में ढेर सारे नौकर थे राहुल के पास हजारों तरह के खिलौने थे राहुल का घर काफी शानदार और आलीशान था और एक तरफ मोहन था

जिसका घर काफी छोटा था और उसके पापा के पास एक छोटी सी बाइक थी मोहन के पास राहुल की तरह हजारों तरह के खिलौने नहीं थे उसके पास मुश्किल से दो या तीन खिलौने थे राहुल अपने बड़े के घर से बालकनी में जाकर मोहन को उसके दोस्तों के साथ खेलते देखता था राहुल एक हाईप्रोफाइल घर का लड़का था इसलिए वह छोटे घर के बच्चों के साथ नहीं खेल सकता था इसलिए वह दूर से ही उनको खेलते देखता था राहुल को अंदर ही अंदर बहुत ही रोना आता था क्योंकि उसका कोई दोस्त नहीं था और उसे भी मोहन जैसे सारे खेल खेलने थे

किस की किस्मत ज्यादा अच्छी है stories for kids

और दूसरी तरफ मोहन था मोहन भी कभी-कभी राहुल को देखा करता था क्योंकि मोहन को राहुल की गाड़ी और उसका आलीशान घर बहुत अच्छा लगता था राहुल के घर में ढेर सारे नौकर थे तो मोहन भी चाहता था कि हमारे घर पर भी ढेर सारे नौकर रहे हमारा घर भी बढ़ा रहे ऐसा सोचकर राहुल और मोहन दुखी रहा करते थे

किस की किस्मत ज्यादा अच्छी है Moral Stories से हमें क्या सीखने को मिला

सही मायने में देखा जाए तो उन दोनों में से अर्थात राहुल और मोहन में से कोई खुश नहीं है क्योंकि उन दोनों को एक दूसरे के चीजों से प्यार है उन्हें कुछ पाने का चाहा है और लालच कभी पूरी नहीं होती इसलिए वह हमेशा दुखी रहते हैं.

4# जो होता है अच्छे के लिए होता है Moral Storie In Hindi

एक बार राजा अकबर और बीरबल शिकार पर जा रहे थे अकबर के साथ सिपाही एवं उनके हाथी घोड़े भी थे बीच जंगल में उन्हें एक शिकार दिखा तभी अकबर ने अपना तलवार निकाला और इसी दौरान तरवार निकालते निकालते अकबर का हाथ कट गया और उसके हाथ से खून बहने लगा

अकबर ने अपने सिपाहियों से वैध को बुलाने के लिए चिल्लाकर कहा उसी दौरान बीरबल ने राजा के हाथ देखें और अकबर से कहा राजा जी घबराइए नहीं जो होता है अच्छे के लिए होता है बीरबल की यह बात सुनकर राजा अकबर बहुत क्रोधित हो गए और कहने लगे हे बीरबल तुम पागल हो क्या क्या तुम्हें मेरी पीड़ा नहीं दिखाई देती जो तुम बोल रहे हो जो होता है अच्छे के लिए होता है भला इसमें क्या अच्छा हुआ मेरा हाथ कट गया

और क्रोधित होकर राजा अकबर ने बीरबल को अपने सिपाहियों को सौंप दिया और सुबह उसे फांसी की सजा देने का ऐलान करवा दिया और बीरबल अकेले ही शिकार पर चले गए जब राजा अकबर शिकार पर जा रहे थे तभी वह जंगल के काफी अंदर चले गए और तभी अकबर को एक कबीले के झुंड ने पकड़ लिया और उन कबीले वासियों ने राजा अकबर को जिंदा जलाने का फैसला किया जब अकबर को जलाया जा रहा था तब कबीले वासी के एक सदस्य ने राजा के हाथ को देखा और कहने लगे की इस राजा के हाथ कटे हुए हैं हम इसे नहीं जला सकते क्योंकि यह अशुद्ध है

जो होता है अच्छे के लिए होता है story for kids

फिर क्या हुआ

और अखबार छोड़ दिया गया तभी अपने महल जाते जाते अकबर को याद आया कि बीरबल ने उससे क्या कहा था कि जो होता है अच्छे के लिए होता है मन ही मन अकबर अपने फैसले पर बहुत दुखी था और तेजी से सुबह होने से पहले अकबर अपने महल पहुंचकर बीरबल को बचाना चाहता था और सुबह होने से पहले अकबर अपने महल पहुंच गया और बीरबल को बचा लिया.

और राजा अकबर बीरबल से माफी मांगने लगे तभी बीरबल ने अकबर से कहा कि महाराज जो होता है अच्छे के लिए होता है तभी राजा एक बार फिर क्रोधित हुए और बोले बीरबल इसमें क्या अच्छी बात है तुम अभी मरने वाले थे तभी बीरबल ने अकबर से कहा कि महाराज अगर मैं आपके साथ शिकार पर चले जाता तो वह कबीले वाले मुझे जला देते

जो होता है अच्छे के लिए होता है Moral Storie से हमें क्या सीखने को मिला

जो होता है अच्छे के लिए होता है Moral Storie से हमें यह बात सीखने को मिली की जो भी होता है अच्छे के लिए होता है इसलिए हमें किसी भी छोटी-छोटी बात पर ज्यादा टेंशन लेने की जरूरत नहीं है .

5# मन लगाकर काम नहीं करने का नतीजा Moral Storie In Hindi

एक शहर में एक होनहार कारीगर था जो अपने मालिक के लिए बड़े-बड़े मकान बनाया करता था उनके मालिक वह मकान बनने के बाद उसे अच्छे दामों पर बेच दिया करते थे उस मालिक के लिए उस कारीगर ने हजारों घर बनवाए और उसे अच्छे दामों पर बेचा

वह कारीगर अपने काम में बहुत ही होनहार था उसने अपने मालिक को कभी नाराज नहीं किया था क्योंकि उसका काम बहुत ही अच्छा था धीरे-धीरे वह कारीगर का मन घर बनाने से उतरने लगा और कुछ साल बाद वह कारीगर बूढ़ा हो गया अब उसका मन घर बनाने का बिल्कुल नहीं था इसलिए बूढ़ा कारीगर घर बनाने में आलस करने लगा था

उसके मालिक ने उस कारीगर से कहा अगर आप अब घर बनाना नहीं चाहते हैं तो ठीक है लेकिन आप मेरे कहने पर एक आखरी घर बना दीजिए उस घर को आप अपने मन से बनाइए और पैसे की चिंता मत कीजिए उस कारीगर ने सोचा कि कोई बड़ा घर लेने के लिए आया होगा इसलिए मेरे मालिक फिर से मेरे से घर बनवाना चाहते हैं

मन लगाकर काम नहीं करने का नतीजा story for kids hindi

लेकिन कारीगर का मन अब घर बनाने में नहीं लगता था इसलिए उन्होंने अपनी मालिक की तो बात मानी लेकिन वह घर को अच्छे से नहीं बना रहा था वह नाखुश मन से काम करने लगा था वह अच्छे इंटीरियल एवं अच्छे फर्नीचर का यूज नहीं कर रहा था और घर भी अच्छा मजबूत नहीं बना था उस कारीगर ने सोचा कि मुझे जैसे तैसे यह घर पूरा करके मेरे मालिक को दे देना है फिर क्या था उसने जैसे तैसे करके कमजोर ढांचे वाले हिसाब से घर बना दिया

उसके बाद क्या हुआ

जब घर बंद कर पूरा हो गया तब उस कारीगर के मालिक वह घर को देखने के लिए आए और उस कारीगर के मालिक ने कहा तुमने मेरे लिए पूरा जीवन काम किया है इसलिए यह घर तुम्हारा है उस कारीगर के पैरों तले जमीन खिसक गए और वह मन ही मन सोचने लगा मैंने यह क्या कर दिया.

मन लगाकर काम नहीं करने का नतीजा Moral Storie से हमें क्या सीखने को मिला

मन लगाकर काम नहीं करने का नतीजा Moral Storie से हमें सीखने को मिला कि हमें अपना काम मेरा मन लगाकर करना चाहिए और काम करते समय आलस नहीं करना चाहिए.

6# मेरी मूर्ति सर्वश्रेष्ठ है Moral Storie In Hindi

एक गांव में मशहूर मूर्तिकार रहा करता था उस मूर्तिकार का एक पुत्र भी था वह मूर्तिकार इतना मशहूर था कि दूर दूर से लोग उसकी मूर्तियां देखने तथा खरीदने के लिए आते थे एवं उसके कारीगरी को देखकर मुंह मांगा दाम देकर मूर्ति अपने घर ले जाया करते थे मूर्तिकार और उसके पुत्र बहुत खुश थे मूर्तिकार ने अपने पुत्र को भी मूर्ति बनाना सिखाने की सोची और मूर्तिकार ने अपने पुत्र को भी मूर्ति बनाना सीखना सिखाना चालू किया

धीरे-धीरे उस मूर्तिकार का पुत्र अच्छी मूर्तियां बनाने सीखने लगा जब मूर्तिकार का पुत्र मूर्तियां बनाता था तब वह मूर्तिकार अपने पुत्र को मूर्ति बनाने पर बार-बार वह मूर्तियों की खामियां निकालता था और उसका पुत्र अपने पिताजी के बताए गए खामियों को ठीक करता था और धीरे धीरे उसका पुत्र भी अच्छा मूर्तिकार बन गया

जब मूर्तिकार का पुत्र मूर्ति बना लेता था तो उसके पिता उस मूर्ति में खामियां निकाला करते थे और एक समय ऐसा आया कि उस खामियों के चलते वह मूर्तिकार का पुत्र इतना सर्वश्रेष्ठ मूर्तियां बनाने लगा कि अब वह अपने पिता से भी अच्छा एवं अद्भुत मूर्तियां बनाता था

मेरी मूर्ति सर्वश्रेष्ठ है hindi story
Moral Stories In Hindi

अब धीरे-धीरे उस मूर्तिकार के पुत्र की मूर्तियां काफी ज्यादा कीमतों में बिकने लगी यह कीमत उस मूर्तिकार के मूर्तियों से भी ज्यादा था लेकिन जब भी मूर्तिकार का पुत्र मूर्ति बनाता था तब मूर्तिकार कोई ना कोई खामियां उस मूर्ति में जरूर ढूंढ़ लेता था कुछ साल तो यूं ही चला लेकिन एक बार मूर्तिकार का पुत्र अपने पिता से कहने लगा आप मेरी मूर्तियों में खामियां एसे निकालते हैं मानो आप कोई बड़े मूर्तिकार है और कहने लगा मेरी मूर्तियां आपसे ज्यादा अच्छी है और ज्यादा कीमत में बिकती है

फिर क्या हुआ

उस दिन के मूर्तिकार ने अपने पुत्र के बनाए मूर्तियों में खामियां निकालना बंद कर दिया कुछ महीने तो उस मूर्तिकार का काम अच्छा चला लेकिन धीरे-धीरे लोग मूर्तियों को पसंद करना बंद करने लगे और अब उस मूर्ति के लिए ज्यादा पैसे भी लोग नहीं देते थे यह बात से तंग आकर मूर्तिकार का पुत्र अपने पिता से पूछने लगा जब से आप ने मूर्ति बनाने के बाद मेरी मूर्तियों में खामियां निकालना बंद किया है तब से मेरी बिक्री कम हो गई है क्या आपको पहले से पता था कि ऐसा कुछ होने वाला है मूर्तिकार ने कहा हां मुझे पता था ऐसा कुछ होगा क्योंकि आज से कुछ सालों पहले मेरे साथ भी ऐसा हुआ था

पिता मूर्तिकार ने कहा कि मेरे पिता शहर के जाने-माने मूर्तिकार थे लेकिन मेरे पिता के निकालें खामियों को मैं नजरअंदाज करता था और मैं नहीं चाहता कि तुम भी ऐसा करो मूर्तिकार ने अपने पुत्र से कहा कि बेटा जब तुम सीखना बंद कर देते हो तब धीरे-धीरे तुम्हारी वैल्यू कम होने लगती है इसलिए हमेशा जीवन में सीखना कभी बंद मत करो

मेरी मूर्ति सर्वश्रेष्ठ है Moral Storie से हमें क्या सीखने को मिला

इस Moral Storie हमें सीखने को मिला कि हमें कभी भी सीखना बंद नहीं करना चाहिए एवं जीवन में निरंतर सीखते रहना चाहिए जब हम सीखना बंद कर देते हैं तो धीरे धीरे हमारी वैल्यू घटने लगती है.

7# परिस्थिति से समझौता Moral Stories In Hindi

एक बार एक टीचर ने बच्चों को कुछ बातें सिखाने के लिए मेंढक का सहारा लिया टीचर ने बच्चों से कहा कि बच्चों आज मैं आपको एक बहुत बड़ी सीख देने जा रहा हूं ऐसा कहकर टीचर ने बच्चों को इकट्ठा कर लिया और कहने लगे देखो बच्चों यह एक मेंढक है और मैं इसे जार में रख रहा हूं और इसमें मैं पानी डाल देता हूं बच्चे इसे आश्चर्य से देखने लगे उस टीचर ने उस जार को जो गर्म करने के लिए गैस में रख दिया

धीरे-धीरे उस जार में रखें पानी गर्म होने लगी और वह मेंढक थोड़ा गर्म पानी को अर्जेस्ट करने लगा अब पानी थोड़ा सा और गर्म हुआ फिर भी मेंढक में अपने शरीर का तापमान उस पानी के अनुसार ढाल लिया अब पानी से भाप निकलने लगी तथा पानी उबलने लगा तब उस मेंढक ने उस जार से छलांग लगाने की कोशिश की लेकिन काफी कोशिश के बाद मेंढक उस जार में से छलांग नहीं लगा पाया और उस जार पर ही मेंढक मर गया

परिस्थिति से समझौता  story for kids short
Moral Stories In Hindi

यह सब दिखाकर टीचर ने बच्चों से कहा कि बताओ बच्चों मेंढक को किसने मारा तो बच्चे कहने लगे गर्म पानी ने लेकिन टीचर कहने लगे बिल्कुल नहीं बच्चों मेंढक को उसकी सोच ने मारा क्योंकि जब पानी थोड़ा गर्म था तब वह मेंढक उसे अर्जेस्ट करने में अपनी सारी ताकत धीरे-धीरे खत्म कर रहा था अगर मेंढक उसी समय उस जार से कूद जाता तो आज वह जिंदा होता.

परिस्थिति से समझौता Moral Storie से हमें क्या सीखने को मिला

इस Moral Storie हमें सीखने को मिला कि हमें परिस्थितियों का समझौता करते हुए निरंतर आगे बढ़ते रहना चाहिए हमें जीवन में कंफर्ट जोन में जाकर कभी नहीं रहना चाहिए अगर हमें जीवन में कुछ पाना है तो हमें परिस्थितियों से लड़ना पड़ेगा.

8# आंख खोल देने वाला Moral Stories In Hindi

एक शहर में बहुत धनी व्यक्ति रहा करते थे जिसके पास बेशुमार दौलत था लेकिन धनि व्यक्ति को एक बीमारी थी वह बीमारी इस प्रकार की थी कि वह धनी व्यक्ति को लाल रंग नहीं दिखता था तो उन्होंने यह बीमारी को ठीक कराने के लिए बड़े-बड़े डॉक्टरों से सलाह ली एवं इलाज करवाएं डॉक्टरों ने अमीर व्यक्ति को बताया कि आपके आंखों को एक खास प्रकार की बीमारी है अगर आप यह बीमारी को ठीक करना चाहते हैं

तो आपको कुछ समय सिर्फ और सिर्फ लाल रंग को ही देखना होगा ताकि आपके आंखों में लाल रंग को पहचानने की क्षमता बढ़ जाए उस धनी व्यक्ति के पास बहुत सारा पैसा था इसलिए उसने शहर के जाने-माने पेंटरो को बुलाया और उसने कहा कि आज से मेरी सारी चीजें तुम लाल रंग की कर दो पेंटरो ने ऐसा ही किया

अब सारे पेंटर मिलकर एक एक करके उस धनी व्यक्ति की सारी चीजें लाल कलर की करते चले गए सबसे पहले उन्होंने उसका घर लाल किया उसके बाद सारी चीजें लाल कलर की लेकिन फिर भी बात नहीं बनी कुछ ना कुछ चीजें छूट ही जाती थी लाल रंग होने से वह व्यक्ति देख लेता था और उसे फिर से लाल कलर करवा देता था

फिर क्या हुआ

धीरे-धीरे ऐसा करते करते उस धनि व्यक्ति ने अपने बहुत सारे पैसे लाल कलर करवाने के चक्कर में खर्च कर दिए थे और रोजाना कुछ ना कुछ कलर करवा रहते थे यह करवाते करवाते व्यक्ति ने अपने बहुत सारे धन खर्च कर दिए तभी उस धनी व्यक्ति के घर के पास एक बुद्धिमान लड़का रहता था उसने देखा कि उस धनी व्यक्ति के सारे चीजें लाल रंग की कर रखी है उसमें यह बात का कारण जानने की कोशिश की तो उसे पता चला कि वह धनी व्यक्ति लाल रंग को नहीं देख पता इसलिए अपनी सारी चीजों में लाल रंग करवा के अपनी आखो की छमता बढ़ाना चाहता है

वह लड़का उस धनी व्यक्ति से जाकर मिला और उसने कहा कि आपको शांत दिमाग से सोचना चाहिए क्या इतना पैसा खर्चा करना उचित है उस लड़के ने कहा धनी व्यक्ति कहने लगा बेटा फिर मैं क्या करूं मुझे लाल कलर की पहचान करनी है इसलिए मुझे सारी चीजें लाल करवानी है ताकि मैं अपनी आंखों की छमता बढ़ा सकू

आंख खोल देने वाला hindi kahaniya Moral Stories In Hindi

उस लड़के ने कहा कई बार चीजें बहुत आसान होती है और हमारे आसपास उसका समाधान होता है लेकिन हम पहचान नहीं पाते और उस लड़के ने कहा अगर अपनी सारी चीजें लाल कलर की देखना चाहते हैं तो आप अपनी सारी चीजों को लाल कलर मत करवाइए और लाल कलर के चश्मे पहन लीजिए जिससे आपको सारी चीजें लाल कलर की दिखाई देगी और यह बहुत ही सस्ता उपाय है आपको इतने ज्यादा पैसे खर्च करने की भी जरूरत नहीं है धनी व्यक्ति के पैरों तले जमीन खिसक गए और वह सोचने लगा कि अगर मुझे इतना आसान तरीका है पहले मिला होता तो आज मेरे कितने सारे पैसे बच जाते .

आंख खोल देने वाला Moral Storie से हमें क्या सीखने को मिला

इस short storie से हमें यह सीखने को मिला कि कुछ चीजों का समाधान हमारे आसपास ही होता है लेकिन हम उस चीज की समाधान ढूंढने के लिए इधर-उधर भटकते रहते हैं इसलिए हमें किसी चीज का समाधान खोजने के लिए शांत दिमाग से सोचने की जरूरत होती है.

9# शायद यह कहानी आपकी जिंदगी बदल दे

conclusion

दोस्तो आपको stories for kids तथा moral stories in Hindi कैसा लगा कमेंट बॉक्स पर जरूर पता है और अपने विचार शेयर करें अपना कीमती समय देने के लिए आपका धन्यवाद.

Summary
Review Date
Reviewed Item
Moral Storie In Hindi
Author Rating
51star1star1star1star1star

About the author

Himanshu sonkar

Hello Dosto mera nam Himanshu Sonkar hai or mujhe online aap sab ko information dena bahut hi pasand hai mera post aap logo ke kam aay is Se Jyada Badi Baat aur kuch nahi .

Leave a Reply

.
%d bloggers like this: