कांटो के बिस्तर में सोता है यह साधु जाने इस साधु का हकीकत

kato wale baba.todaythinking.com

हमने आज तक कई सारी बातें सुनी है और उन पर विश्वास भी किया है लेकिन कुछ ऐसी बातें हैं जो हमें देख कर भी उन बातों पर विश्वास करना असंभव प्रतीत होता है नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सब दोस्तों हाल ही में एक चौका देने वाली खबर सामने आई है दोस्तों आज मैं आपको एक साधु के बारे में बताने वाला हूं जो कांटों के बिस्तर में सोता है .

कांटो के बिस्तर में सोता है यह साधु – kato wale baba

दोस्तों यहां बात मथुरा की है जहां एक ऐसे बाबा रहते हैं जो कांटों पर सोते हैं यह बाबा 18 साल की उम्र से ही कांटो पर सोते हैं जब उनसे इस विषय पर पूछा गया कि वह भला कांटों के बिस्तर पर क्यों सोते हैं तो उन्होंने कहा कि मैं जब 18 वर्ष का था तब मेरे से गौ हत्या का पाप हो गया था गौ हत्या जो बाबा से अनजाने में हुई थी उनका प्रायश्चित आजतक व कांटों पर सो कर कर रहे हैं बाबा का असली नाम लक्ष्मण राम है .

बाबा को आसपास के लोग “कांटे वाले बाबा” के नाम से भी जानते हैं बाबा अत्यंत दयालु है व कांटो में सोते हैं इसलिए दूर दूर से उन्हें देखने के लिए लोग आते हैं और कुछ चढ़ावा भी चढ़ा आते हैं बाबा उन चढ़ाए हुए पैसों का एक भी रुपया अपने पास नहीं रखते बल्कि मथुरा के गौशाला में दान कर देते हैं दोस्तो ऐसा दृश्य आपको शायद ही अपने जिंदगी में देखने को मिला होगा लेकिन कोई इंसान अपना पूरा जीवन पश्चाताप में बिताने वाला बहुत ही कम मिलेगा.

जब बाबा से पूछा गया कि आप को काटो पर सोने से तकलीफ नहीं होता तो बाबा ने इसका जवाब देते हुए कहा कि मुझे ईश्वर शक्ति देता है जिससे मैं यह कार्य कर सकता हूं बाबा कुंभ के मेले में भी कांटो पर सोते हैं और साल के 12 महीने अलग-अलग स्थान पर रहते हैं जहां पर कुछ ना कुछ बड़ा आयोजन होता है बाबा वहां चले जाते हैं और कांटों पर सो जाते हैं भारत में आपको ऐसे अनेकों बाबा मिल जाएंगे जो अपने कठोर तप से आज आश्चर्यजनक कारनामे कर रहे हैं.

इसे भी ज़रूर पढ़ें : –

About Todaythinking

Hello Dosto mera nam Himanshu Sonkar hai or mujhe online aap sab ko information dena bahut hi pasand hai mera post aap logo ke kam aay is Se Jyada Badi Baat aur kuch nahi .

View all posts by Todaythinking →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *