इस क्रिसमस में जानिए ईसा मसीह के मृत्यु के पीछे अनसुने रहस्य.

इस क्रिसमस में जानिए ईसा मसीह के मृत्यु के पीछे अनसुने रहस्य. www.todaythinking.com

आज तक अनगिनत लोगों की मौत हुई है मगर एक इंसान या भगवान ऐसा था जिसकी मौत असमान हुई है जिसे हम आज  जीसस क्राइस्टके नाम से जानते हैं  . नमस्कार दोस्तों आज हम जानेंगे ईसा मसीह की मृत्यु के पीछे की पूरी सत्यता और कुछ अनसुलझे रहस्य  जाने क्रिसमस के बारे में हिंदी में

ईसा मसीह के मृत्यु के पीछे अनसुने रहस्य.

जीसस क्राइस्ट कौन थे यह जवाब के लिए हमें इस ब्रह्मांड के सबसे पहले दौर में जाना होगा अगर बाइबल की माने तो जब परमात्मा ने आदम को बनाया तो उसमें किसी भी प्रकार की बुराई नहीं थी आदम जहां रहा करते थे वह दुनिया की सबसे बड़ा खूबसूरत बगीचा था वह बगीचे में दुनिया के सारे फल और फूल थे आदम यह फल फूल का उपयोग कर सकता था लेकिन यह पेड़ों में एक पेड़ ऐसा था इसका उपयोग आदम नहीं कर सकता था वह पेड़ ईश्वर के आधार पर इस बात की निशानी थी कि अच्छे – बुरे ,सत्य -असत्य ठैराने के पीछे का अधिकार सिर्फ परमात्मा का है. “जाने क्रिसमस के बारे में हिंदी में “

लेकिन धीरे धीरे आदम के मानव मस्तिष्क में इस धरती की खूबसूरती देखकर लालच पनपने लगा और लालच के साथ बुराई चली आती है परमेश्वर ने जब आदम को बनाया था तो परमेश्वर ने आदत को बहुत सी अच्छी चीज दी थी लेकिन धीरे धीरे आदम में उसके कद्र को नहीं समझा आदम में परमेश्वर के आज्ञा को तोड़ने का फैसला किया और आखिरकार आदम ने वह पेड़ का फल खा लिया और आदम ने परमेश्वर के कहे वचनों को ठुकरा दिया फल स्वरूप आदम के इस गलती से आज मानव सभ्यता की मृत्यु होती है अगर आदम ने परमेश्वर के कहे वचनों का पालन किया होता तो आज परमेश्वर हम पर कृपालु होते. “जाने क्रिसमस के बारे में हिंदी में”

यह धरती में ईसा मसीह के आने से

अब इंसान पाप और मृत्यु से कभी छुटकारा नहीं पा सकता था लेकिन परमात्मा ने चमत्कार किया और स्वर्ग से उनका एक संतान धरती पर आया उनका नाम आज हम ईसा मसीह के नाम से जानते हैं ईसा मसीह आदम की तरह परिपूर्ण थे लेकिन आदम और ईसा मसीह में एक फर्क था वह फर्क यह था कि ईसा मसीह परमात्मा का कहना मानते थे इसलिए यीशु मसीह ने अपने जान को जोखिम में डाल कर भी दूसरों की मदद कर पाते थे  ईसा मसीह जब तक इस धरती में रहे उन्होंने हर एक इंसान की मदद की थी. “जाने क्रिसमस के बारे में हिंदी में “

आदम और ईसा मसीह में क्या फर्क है हम एक कहानी से जा सकते हैं

मान लीजिए एक बहुत बड़ा बैंक है वह बैंक में हजारों कर्मचारी काम करते हैं वह बैंक के सभी कर्मचारी अच्छे हैं लेकिन वह बैंक के मैनेजर बहुत ही क्रूर किसम का है एक दिन वह मैनेजर के मन में लालच आया और वह मैनेजर ने बैंक के सारे पैसे चुराने का फैसला किया और वह मैनेजर में बैंक के सारे पैसे चुरा लिए कुछ दिनों बाद बैंक कर्ज में डूब गया और वहां के कर्मचारी की स्थिति बहुत ही दयनीय हो चुकी थी कुछ समय पश्चात यह खबर किसी नेक इंसान जो दौलत पति भी थे उन तक पहुंची “जाने क्रिसमस के बारे में हिंदी में “

और उन्होंने वहां के कर्मचारियों कि मदद करने का फैसला किया और उस नेक इंसान ने वह बैंक के सारे कर्जे चूका दिए और बैंक को दोबारा चालू किया दोस्तों हमें यह कहानी से सीख मिलती है कि जिस प्रकार आदम ने अपने एक गलती या लालच से मानव सभ्यता को श्राप दिलवाया उसी प्रकार उस बैंक के मैनेजर ने जिसके मन में लालच का भाव था उसने आपने लालच से हजारो कर्मचारियों को मुसीबत में डाल दिया और इसा मसीह की तरह उस नेक इंसान से उन लोगो की मदद की .

ईसा मसीह को सूली पर क्यों लटकाया गया

दोस्तों जब ईसा मसीह धरती पर आए थे तो वह मानवरूप में थे और इस जहां में आदम के श्राप के कारण जो पैदा हुआ है उसे मरना भी होता हैउसी प्रकार ईसा मसीह की मृत्यु हुई दोस्तों ईसा मसीह परमात्मा का रूप है लेकिन धरतीमें कुछ लोग ऐसे थे जिन्होंने ईसा मसीह का विरोध किया उस समय ईसा मसीह के चमत्कारिकशक्तियों को देख कर वहां के राजा उन से ईर्ष्या करने लगे क्योंकि वहां की आम जनता यीशुमसीह को मानने लगी और राजा के वचनों के खिलाफ हो गई यह देख कर वहां के राजा ने ईसामसीह को सूली में चढ़ा दिया जब ईसा मसीह सूली में लटके हुए थे तो भी वह उस राजा केलिए प्रार्थना कर रहे थे जिन्होंने उन्हें सूली पर लटकाया था दोस्तों ईसा मसीह स्वयंपरमात्मा के रूप है

दोस्तों आपको आज का पोस्ट कैसा लगा कमेंट में जरूर बताइएगा अगर अच्छा लगे तो शेयर भी कर दे Happy Christmas








About Todaythinking

Hello Dosto mera nam Himanshu Sonkar hai or mujhe online aap sab ko information dena bahut hi pasand hai mera post aap logo ke kam aay is Se Jyada Badi Baat aur kuch nahi .

View all posts by Todaythinking →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *